विशेषण – परिभाषा, भेद और उदाहरण – Visheshan Ki Paribhasha, Visheshan Ke Bhed

Hindi Grammar के इस भाग मे आप जानेंगे Visheshan Ki Paribhasha, Visheshan Ke Bhed, Visheshan Kise Kahate Hain तथा Visheshan Ke Prakar. आप मे से कई लोग हिंदी मे इस पाठ मे confuse रहते है। तो इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको Visheshan In hindi मे कोई समस्य नहीं होगी।

इसको पढ़ने के बाद आप Visheshan Hindi worksheets for class 9, 10, 11, 12, 8 आदि कक्षाओं के साथ-साथ UPTET, UP PET, UPSSSC UP Lekhpal Hindi जैसे सभी परीक्षाओं मे काफी मदद करेगा। तो इसको पूरा जरूर पढ़ें।

Visheshan Ki Paribhasha Visheshan Ke Bhed

Visheshan Ki Paribhasha

विशेषण की परिभाषा – जो शब्द संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, उसे विशेषण (Adjective) कहते है। इसी के साथ विशेषण जिसकी विशेषता बताता है, उसे विशेष्य कहते है तथा विशेषणों की विशेषता बताने वाले शब्द को प्रविशेषण कहते है। जैसे-

सुमन बहुत तेज दैड़ती है।

यहाँ सुमन संज्ञा शब्द है, जिसकी विशेषता तेज़ दौड़ने से है, तो तेज विशेषण है तथा बहुत शब्द तेज की विशेषता बता रहा है इसलिए यह प्रविशेषण है।

Visheshan Ke Kitne Bhed Hote Hain

विशेषण के चार भेद होते है। हिंदी मे Visheshan Ke Bhed की संख्या कुल चार है-

  1. गुणवाचक विशेषण
  2. परिमाणवाचक विशेषण
  3. संख्यावाचक विशेषण
  4. सार्वनामिक विशेषण
visheshan ke bhed ki worksheet
visheshan ke bhed ki worksheet

गुणवाचक विशेषण की परिभाषा – Gunvachak Visheshan Ki Paribhasha

जिन शब्दों द्वारा संज्ञा के गुण अथवा दोष का बोध होता है, उसे गुणवाचक विशेषण कहते हैं। गुणवाचक के प्रमुख रूप नीचे दिये है-

  • समय – प्रातःकालीन, त्रैमासिक, साप्ताहिक, मासिक, दैनिक इत्यादि।
  • रंग – हरा, लाल, पीला, काला, नारंगी, पीला इत्यादि।
  • भाव – कायर, दयालु, निर्दयी, बुरा, शूरवीर, बलवान इत्यादि।
  • स्थान – ग्रामीन, पहाड़ी, मैदानी, शहरी, बिहारी इत्यादि।
  • काल – अगला, नया, पिछला, पुराना इत्यादि।
  • आकार – सुन्दर, लम्बा, नीचा, भद्दा, चौड़ा इत्यादि।
  • दशा – अस्वस्थ, निरोग, कमजोर, बलिष्ठ, स्वस्थ इत्यादि।

परिमाणवाचक विशेषण की परिभाषा – Pariman Vachak Visheshan Ki Paribhasha

जिन विशेषण शब्दों द्वारा संज्ञा की मात्रा, नाप, तौल आदि का बोध होता है, उसे परिमाणवाचक विशेषण कहते है। यह कुल दो प्रकार का होता है-

  • निश्चित परिमाणवाचक – जिन विेशेषण शब्दों के द्वारा निश्चित मात्रा की संज्ञा का बोध होता है, वह निश्चित परिमाणवाचक कहलाता है। जैसे- दस किलो दाल, पाँच लीटर दूध, 2 मीटर कपड़ा आदि
  • अनिश्चित परिमाणवाचक – जिन विशेषण शब्दों से संज्ञा शब्द की अनिश्चित माता का बोध हो, उसे ही अनिश्चित परिमाणवाचक कहते है। जैसे – कुछ घी, बहुत शहद, थोड़ा दूध आदि

संख्यावाचक विशेषण की परिभाषा – Sankhya Vachak Visheshan Ki Paribhasha

जिन विशेषण शब्दों से संज्ञा की संख्या का बोध होता है, उसे संख्यावाचक विशेषण कहते है। जैसे – एक कुर्सी, चार बेड, दस पुस्तकें इत्यादि। संख्यावाचक विशेषण कुल दो प्रकार के होते है-

  • निश्चित संख्यावाचक – जिन विशेषण संज्ञा शब्दों मे निश्चित संख्या का बोध होता है, उसे निश्चित संख्यावाचक विशेषण कहते है। जैसे – एक, दोनों, प्रति, प्रत्येक, एक-एक तीनों आदि।
विशेषणउदाहरण
पूर्णांकवाचकएक, चार, दो, दस इत्यादि।
आवृतिवाचकतिगुना, सौगुना, दोगुना इत्यादि।
अपूर्णांकवाचकसवा, आधा, पौना, ढाई इत्यादि।
विभागबोधक एक-एक, दस-दस कुर्सी आदि
समुदायवाचकतीनों, सातों, दोनों इत्यादि।
कर्मवाचकदूसरा, आठवाँ, दसवाँ पाँचवाँ इत्यादि।
  • अनिश्चित संख्यावाचक – जिन विशेषण शब्दों मे अनिश्चित संख्या का बोध हो, यानी जिन्हें हम गिन न सकें, उसे अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण होते है। जैसे – कुछ आदमी, थोड़ा पानी आदि।

सार्वनामिक विशेषण की परिभाषा – Sarvanamik Visheshan Ki Paribhasha

जो सर्वनाम शब्द संज्ञा के लिए विशेषण शब्द का काम करते है, उसे सार्वनामिक विशेषण कहलाते है। जिनमे यह, जो, कौन, कोई, क्या, ऐसा, ऐसी, वह, वैसी इत्यादि आते है। ये संज्ञा शब्द के पहले प्रयुक्त होकर विशेषण का कार्य करते है। याद रहे जब से सर्वनाम अकेले प्रयोग किए जाते है तब ये केवल सर्वनाम ही होते है। जैसे-

  • वह लड़की बदमाश है।
  • इस लड़के ने नकल की है।
सार्वनामिक विशेषणउदाहरण
निश्चयवाचक सार्वनामिक विशेषणयह, वह, वे, ये।
प्रश्नवाचक सार्वनामिक विशेषणक्या, कौन, कोई
अनिश्चयवाचक सार्वनामिक विशेषणकोई, कुछ
सम्बन्ध सार्वनामिक विशेषण सो, जो

Visheshan Ki Avastha In Hindi

विशेषण संज्ञा शब्दों की विशेष्ता बताते है। यह विशेषता किसी मे सामान्य, किसी मे सबसे अधिक, किसी मे कुछ अधिक होती है। इसी उतार-चढ़ाव को तुलना कहते है। हिंदी मे तुलनात्मक विशेषण की तीन अवस्थाएँ हैं-

  1. मूलावस्था
  2. उत्तरावस्था
  3. उत्तमावस्था
मूलावस्थाउत्तरावस्थाउत्तमावस्था
कोमलकोमलतरकोमलतम
सुन्दरसुन्दरतरसुन्दरतम
निम्ननिम्नतरनिम्मतम
लघुलघुतरलघुतम
अधिकअधिकतरअधिकतम

इसे भी जानें –

Visheshan Prashan Uttar

Visheshan Ki Kitni Avastha Hoti Hai?

हिंदी मे तुलनात्मक विशेषण की तीन अवस्थाएँ हैं- मूलावस्था, उत्तरावस्था , उत्तमावस्था

विशेषण के कितने भेद हैं?

विशेषण के चारो भेद इस प्रकार हैं-
-गुणवाचक विशेषण
-परिमाणवाचक विशेषण
-संख्यावाचक विशेषण
-सर्वनामिक विशेषण

विशेषण किसे कहते हैं?

जो शब्द संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, उन्हें ही विशेषण (Adjective) कहते है। ये चार प्रकार के होते है।

Visheshan Ke Kitne Bhed Hote Hain?

हिंदी मे Visheshan Ke Bhed की संख्या कुल चार है- गुणवाचक विशेषण, परिमाणवाचक विशेषण , संख्यावाचक विशेषण , सार्वनामिक विशेषण

तो आपको यह पोस्ट Visheshan Ki Paribhasha, Visheshan Ke Bhed, Visheshan In Hindi कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताए तथा आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.