द्रव्यवाचक संज्ञा (परिभाषा एवं उदाहरण): Dravya Vachak Sangya In Hindi

Dravya Vachak Sangya in Hindi: इस पोस्ट के द्वारा आप यहां पर द्रव्यवाचक संज्ञा की परिभाषा और उदाहरण (Dravya Vachak Sangya) के बारे में विस्तार से बताया गया है। हर कक्षा की परीक्षा में पूछा जाने वाले यह एक विशेष महत्वपूर्ण सवाल है। यहां पर हम द्रव्यवाचक संज्ञा को निम्न स्टेप्स में जानेंगे।

Advertisements
Dravya Vachak Sangya In Hindi

द्रव्यवाचक संज्ञा किसे कहते हैं?

वह शब्द जो किसी तरल, ठोस, अधातु, धातु, पदार्थ, द्रव्य आदि का बोध कराते हो, उन्हें द्रव्यवाचक संज्ञा कहा जाता है। द्रव्यवाचक संज्ञा अगणनीय होती है और इन्हें ढेर के रूप में तोली या मापी जाती है।

Advertisements

उदाहरण के लिए

  • पदार्थों के नाम – दूध, तेल, घी, पानी, दही, जूस, मोबिल, पेट्रोल आदि।
  • धातुओं के नाम – चाँदी, सोना, पीतल, प्लेटिनम, ताँबा, पीतल इत्यादि।
  • गैसीय पदार्थों के नाम – ऑक्सीजन, धुआँ, नाइट्रोजन, हाइड्रोजन इत्यादि।

द्रव्यवाचक संज्ञा के 10 उदाहरण

पानी, घी, तेल, कोयला, चाँदी, सोना, फल, सब्जी, हिरा, लोहा, चीनी, आदि द्रव्य द्रव्यवाचक संज्ञा कहलाते है। इन्हें गिना नहीं जाता बल्कि इन्हें मापा या फिर तोला जाता है।

हम एक उदाहरण के रूप में घी को लेते हैं। हम एक घी या दो घी नहीं कह करके एक किलो घी या दो किलो घी कहते हैं। किलो एक नापने का प्रमाण है।

द्रव्यवाचक संज्ञा के उदाहरण (Dravya Vachak Sangya Examples)

  • कोहिनूर हीरा सबसे महंगा है।
    • यहां पर हमें हीरा शब्द से बोध हो रहा है कि यह द्रव्य है, इसलिए यहां पर हीरा द्रव्यवाचक संज्ञा का एक उदाहरण है।
  • मुझे फल बहुत पसंद है।
    • यहां पर फल हमें द्रव्य होने का बोध करा रहा है, इसलिए यहां पर फल एक द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • सुनार के पास सोना है।
    • यहां पर सोना शब्द से द्रव्य का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर सोना शब्द में द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • चाँदी के आभूषण बहुत सुंदर होते हैं।
    • यहां पर चाँदी से हमें द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर चाँदी एक द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • सोने का रंग सुनहरा होता है।
    • यहां पर सोना द्रव्य का बोध करा रहा है, इसलिए सोना एक द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • लोहा बहुत महंगा हो रहा है।
    • यहां पर लोहा से हमें द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर लोहा एक द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • घी खाने से हम स्वस्थ रहते हैं।
    • यहां पर घी शब्द से द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर घी द्रव्यवाचक संज्ञा का उदाहरण है।
  • चाय में चीनी डालने से चाय में स्वाद आ जाता है।
    • यहां पर चीनी शब्द से हमें द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर चीनी शब्द में द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • मैं सब्जी लेकर आया हूँ।
    • यहां पर सब्जी शब्द से हमें द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर सब्जी एक द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • मैं पानी पीने के लिए जा रहा हूँ।
    • यहां पर हमें पानी शब्द से द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए पानी द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • आज मैंने दूध पिया है।
    • यहां पर दूध से द्रव्य होने का हमें बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर दूध में द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • अबकी बार बाजरे की फसल अच्छी हुई है।
    • यहां पर बाजरे शब्द से द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए यहां पर बाजरे में द्रव्यवाचक संज्ञा है।
  • आम बहुत मीठा होता है।
    • यहां पर हमें आम से द्रव्य होने का बोध हो रहा है, इसलिए आम में द्रव्यवाचक संज्ञा है।

द्रव्यवाचक संज्ञा के उदाहरण – Dravya Vachak Sangya Examples

  • मुझे फल बहुत पसंद है।
  • चाय में चीनी डालने से चाय में स्वाद आ जाता है।
  • आज मैंने दूध पिया है।
  • मैं सब्जी लेकर आया हूँ।
  • चाँदी के आभूषण बहुत सुंदर होते हैं।
  • लोहा बहुत महंगा हो रहा है।
  • कोहिनूर हीरा सबसे महंगा है।
  • सुनार के पास सोना है।
  • मैं पानी पीने के लिए जा रहा हूँ।
  • सोने का रंग सुनहरा होता है।
  • अबकी बार बाजरे की फसल अच्छी हुई है।
  • आम बहुत मीठा होता है।
  • घी खाने से हम स्वस्थ रहते हैं।

Dravya Vachak Sangya Worksheet

dravya vachak sangya की नोट्स PDF download करने के लिए आप नीचे दिए download button पर क्लिक करके आप इसके free मे download कर सकते है।

इसे भी पढ़े –

संज्ञा की परिभाषा, उसके सभी भेद और उनके उदाहरण के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *