|

Article 348 In Hindi | Article 348 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 348 क्या है

इसमे आपको Article 348 Of Indian Constitution In Hindi के बारे मे बताया गया है। अगर आपको Article 348 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 348 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसमे हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे इसमे Article 348 के बारे मे भी बताया गया है। भारत के हर व्यक्ति को Indian Constitution Articles के बारे मे जानकारी जरूर से जरूर होनी चाहिए ही।

Article 348 In Hindi

अनुच्छेद 348 – उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालयों में और अधिनियमों, विधेयकों आदि के लिए प्रयोग की जाने वाली भाषा।
(1) इस भाग के पूर्वगामी उपबंधों में किसी बात के होते हुए भी, जब तक कि संसद विधि द्वारा अन्यथा उपबंध न करे
(ए) सर्वोच्च न्यायालय और प्रत्येक उच्च न्यायालय में सभी कार्यवाही,
(बी) आधिकारिक ग्रंथ
(i) संसद के किसी सदन में या सदन में या किसी राज्य के विधानमंडल के किसी भी सदन में पेश किए जाने वाले सभी विधेयकों या उनके संशोधनों में से,
(ii) संसद या किसी राज्य के विधानमंडल द्वारा पारित सभी अधिनियमों और किसी राज्य के राष्ट्रपति या राज्यपाल द्वारा प्रख्यापित सभी अध्यादेश, और
(iii) इस संविधान के तहत या संसद या किसी राज्य के विधानमंडल द्वारा बनाए गए किसी भी कानून के तहत जारी किए गए सभी आदेशों, नियमों, विनियमों और उपनियमों में से अंग्रेजी भाषा में होंगे।

(2) खंड (1) के उपखंड (ए) में किसी भी बात के होते हुए भी, किसी राज्य का राज्यपाल, राष्ट्रपति की पूर्व सहमति से, हिंदी भाषा, या किसी अन्य भाषा के उपयोग को अधिकृत कर सकता है, जिसका उपयोग किसी भी आधिकारिक उद्देश्यों के लिए किया जाता है। राज्य, उच्च न्यायालय में कार्यवाही में जिसका उस राज्य में मुख्य स्थान है: बशर्ते कि इस खंड में कुछ भी ऐसे उच्च न्यायालय द्वारा पारित या किए गए किसी निर्णय, डिक्री या आदेश पर लागू नहीं होगा।
(3) खंड (1) के उपखंड (बी) में किसी भी बात के होते हुए भी, जहां किसी राज्य के विधानमंडल ने राज्य के विधानमंडल में पेश किए गए विधेयकों या पारित अधिनियमों में उपयोग के लिए अंग्रेजी भाषा के अलावा किसी भी भाषा को निर्धारित किया है या राज्य के राज्यपाल द्वारा प्रख्यापित अध्यादेशों में या उस उप खंड के पैराग्राफ (iii) में संदर्भित किसी भी आदेश, नियम, विनियम या उप-कानून में, राज्यपाल के अधिकार के तहत प्रकाशित अंग्रेजी भाषा में उसी का अनुवाद उस राज्य के राजपत्र में राज्य को इस लेख के तहत अंग्रेजी भाषा में उसका आधिकारिक पाठ माना जाएगा।

Indian Constitution Part 17 articles

Article 348 Of Indian Constitution In English

Article 348 – Language to be used in the Supreme Court and in the High Courts and for Acts, Bills, etc.
(1) Notwithstanding anything in the foregoing provisions of this Part, until Parliament by law otherwise provides
(a) all proceedings in the Supreme Court and in every High Court,
(b) the authoritative texts
(i) of all Bills to be introduced or amendments thereto to be moved in either House of Parliament or in the House or either House of the Legislature of a State,
(ii) of all Acts passed by Parliament or the Legislature of a State and of all Ordinances promulgated by the President or the Governor of a State, and
(iii) of all orders, rules, regulations and bye laws issued under this Constitution or under any law made by Parliament or the Legislature of a State, shall be in the English language.

(2) Notwithstanding anything in sub clause (a) of clause ( 1 ), the Governor of a State may, with the previous consent of the President, authorise the use of the Hindi language, or any other language used for any official purposes of the State, in proceedings in the High Court having its principal seat in that State: Provided that nothing in this clause shall apply to any judgment, decree or order passed or made by such High Court.
(3) Notwithstanding anything in sub clause (b) of clause ( 1 ), where the Legislature of a State has prescribed any language other than the English language for use in Bills introduced in, or Acts passed by, the Legislature of the State or in Ordinances promulgated by the Governor of the State or in any order, rule, regulation or bye law referred to in paragraph (iii) of that sub clause, a translation of the same in the English language published under the authority of the Governor of the State in the Official Gazette of that State shall be deemed to be the authoritative text thereof in the English language under this article.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

अनुच्छेद 348 मे क्या है

वाद-विवाद संक्षेप – एक सदस्य ने मसौदा अनुच्छेद में उल्लिखित न्यायालयों और कानूनों द्वारा अंग्रेजी के उपयोग के लिए 15 वर्ष की समय सीमा लगाने का प्रस्ताव रखा। एक अन्य सदस्य राज्य को संबंधित राज्य में उच्च न्यायालय की कार्यवाही के लिए हिंदी या किसी अन्य भाषा का उपयोग करने का विकल्प चुनने का अधिकार देना चाहता था।

हालाँकि, निर्णय, फरमान और आदेश अंग्रेजी में होंगे। इसके अलावा, राज्य में किसी अन्य भाषा में पारित कानूनों और नियमों के साथ राज्यपाल द्वारा प्रमाणित एक अंग्रेजी अनुवाद होगा। सभा ने बिना किसी बहस के इस संशोधन को स्वीकार कर लिया। इसने 14 सितंबर 1949 को संशोधन के साथ मसौदा अनुच्छेद 301F को अपनाया।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 346 In Hindi
Article 347 In Hindi
Article 338 In Hindi
Article 339 In Hindi
Article 340 In Hindi
Article 341 In Hindi
Article 342 In Hindi
Article 343 In Hindi
Article 344 In Hindi
Article 345 In Hindi

Final Words

आपको यह Article 348 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। बाकी मैने Article 348 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है जैसे कि Anuched 348 Kya Hai? अगर Article Of Indian Constitution से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को दोस्तो मे शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *