|

Article 296 In Hindi | Article 296 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 296 क्या है

इसमे आपको Article 296 Of Indian Constitution In Hindi के बारे मे बताया गया है। अगर आपको Article 296 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 296 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसमे हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे इसमे Article 296 के बारे मे भी बताया गया है। भारत के हर व्यक्ति को Indian Constitution Articles के बारे मे जानकारी जरूर से जरूर होनी चाहिए ही।

Article 296 In Hindi

अनुच्छेद 296 – चोरी या व्यपगत या वास्तविक रिक्तता के रूप में उपार्जित संपत्ति
विषय के रूप में इसके बाद भारत के क्षेत्र में कोई संपत्ति प्रदान की गई है, जो, यदि यह संविधान लागू नहीं होता, तो महामहिम या, जैसा भी मामला हो, किसी भारतीय राज्य के शासक के लिए, या के रूप में अर्जित होता। एक वास्तविक स्वामी के अभाव में वास्तविक रिक्तता, यदि वह किसी राज्य में स्थित संपत्ति है, तो ऐसे राज्य में निहित होगी, और किसी अन्य मामले में, संघ में निहित होगी: बशर्ते कि कोई भी संपत्ति जो उस तिथि पर होगी जब उसके पास ऐसा होगा महामहिम या एक भारतीय राज्य के शासक को अर्जित किया गया था जो भारत सरकार या किसी राज्य की सरकार के कब्जे में या नियंत्रण में था, जिस उद्देश्य के लिए इसका इस्तेमाल किया गया था या आयोजित किया गया था, संघ के उद्देश्य थे या एक राज्य, संघ या उस राज्य में निहित स्पष्टीकरण लेख में, अभिव्यक्ति शासक और भारतीय राज्य का वही अर्थ है जो अनुच्छेद 363 में है।

Indian Constitution Part 12 articles

Article 296 Of Indian Constitution In English

Article 296 – Property accruing by escheat or lapse or as bona vacantia
Subject as hereinafter provided any property in the territory of India which, if this Constitution had not come into operation, would have accrued to His Majesty or, as the case may be, to the Ruler of an Indian State by escheat or lapse, or as bona vacantia for want of a rightful owner, shall, if it is property situate in a State, vest in such State, and shall, in any other case, vest in the Union: Provided that any property which at the date when it wouldhave so accrued to His Majesty or to the Ruler of an Indian State was in the possession or under the control of the Government of India or the Government of a State shall, according as the purposes for which it was then used or held were purposes of the Union or a State, vest in the Union or in that State Explanation In the article, the expressions Ruler and Indian State have the same meanings as in Article 363.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

अनुच्छेद 296 मे क्या है

वाद-विवाद संक्षेप – मसौदा समिति के अध्यक्ष ने एक संशोधन पेश किया जिसने मसौदा अनुच्छेद में कुछ अर्थ परिवर्तन का प्रस्ताव रखा। बिना ज्यादा बहस के संशोधन को स्वीकार कर लिया गया। संशोधित मसौदा अनुच्छेद उसी दिन बिना किसी चर्चा के स्वीकार कर लिया गया।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 286 In Hindi
Article 287 In Hindi
Article 288 In Hindi
Article 289 In Hindi
Article 290 In Hindi
Article 291 In Hindi
Article 292 In Hindi
Article 293 In Hindi
Article 294 In Hindi
Article 295 In Hindi

Final Words

आपको यह Article 296 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। बाकी मैने Article 296 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है जैसे कि Anuched 296 Kya Hai? अगर Article Of Indian Constitution से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को दोस्तो मे शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *