|

Article 295 In Hindi | Article 295 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 295 क्या है

इसमे आपको Article 295 Of Indian Constitution In Hindi के बारे मे बताया गया है। अगर आपको Article 295 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 295 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसमे हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे इसमे Article 295 के बारे मे भी बताया गया है। भारत के हर व्यक्ति को Indian Constitution Articles के बारे मे जानकारी जरूर से जरूर होनी चाहिए ही।

Article 295 In Hindi

अनुच्छेद 295 – अन्य मामलों में संपत्ति, संपत्ति, अधिकार, देनदारियों और दायित्वों का उत्तराधिकार
(1) इस संविधान के प्रारंभ से ही
(ए) सभी संपत्ति और संपत्ति जो इस तरह के प्रारंभ से ठीक पहले किसी भी भारतीय राज्य में पहली अनुसूची के भाग बी में निर्दिष्ट राज्य के अनुरूप निहित थे, यदि वे उद्देश्य जिनके लिए ऐसी संपत्ति और संपत्ति इस तरह के तुरंत पहले आयोजित की गई थी इसके बाद संघ सूची में उल्लिखित किसी भी मामले से संबंधित संघ के उद्देश्य होंगे, और
(बी) पहली अनुसूची के भाग बी में निर्दिष्ट राज्य के अनुरूप किसी भी भारतीय राज्य की सरकार के सभी अधिकार, दायित्व और दायित्व, चाहे किसी अनुबंध से उत्पन्न हों या अन्यथा, सरकार के अधिकार, दायित्व और दायित्व होंगे भारत, यदि वे उद्देश्य जिनके लिए ऐसे अधिकार अर्जित किए गए थे या ऐसे प्रारंभ से पहले देनदारियां या दायित्व किए गए थे, उसके बाद प्रारंभ की सरकार के उद्देश्य होंगे, उसके बाद संघ सूची में वर्णित किसी भी मामले से संबंधित भारत सरकार के उद्देश्य होंगे, उस राज्य की सरकार के साथ भारत सरकार द्वारा उस संबंध में किए गए किसी भी समझौते के अधीन।

(2) पूर्वोक्त विषय के रूप में, पहली अनुसूची के भाग बी में निर्दिष्ट प्रत्येक राज्य की सरकार, इस संविधान के प्रारंभ से, सभी संपत्ति और संपत्ति और सभी अधिकारों के संबंध में संबंधित भारतीय राज्य की सरकार की उत्तराधिकारी होगी। , देनदारियां और दायित्व, चाहे वे किसी अनुबंध से उत्पन्न हों या अन्यथा, खंड (1) में निर्दिष्ट के अलावा अन्य।

Indian Constitution Part 12 articles

Article 295 Of Indian Constitution In English

Article 295 – Succession to property, assets, rights, liabilities and obligations in other cases
(1) As from the commencement of this Constitution
(a) all property and assets which immediately before such commencement were vested in any Indian State corresponding to a State specified in Part B of the First Schedule shall vest in the Union, if the purposes for which such property and assets were held immediately before such commencement will thereafter be purposes of the Union relating to any of the matters enumerated in the Union List, and

(b) all rights, liabilities and obligations of the Government of any Indian State corresponding to a State specified in Part B of the First Schedule, whether arising out of any contract or otherwise, shall be the rights, liabilities and obligations of the Government of India, if the purposes for which such rights were acquired or liabilities or obligations were incurred before such commencement will thereafter be purposes of the Government of commencement will thereafter be purposes of the Government of India relating to any of the matters enumerated in the Union List, subject to any agreement entered into in that behalf by the Government of India with the Government of that State.
(2) Subject as aforesaid, the Government of each State specified in Part B of the First Schedule shall, as from the commencement of this Constitution, be the successor of the Government of the corresponding Indian State as regards all property and assets and all rights, liabilities and obligations, whether arising out of any contract or otherwise, other than those referred to in clause ( 1 ).

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

अनुच्छेद 295 मे क्या है

वाद-विवाद संक्षेप – मसौदा अनुच्छेद 270A (भारत का अनुच्छेद 1950) मसौदा संविधान 1948 में शामिल नहीं किया गया था। इसे 13 अक्टूबर 1949 को मसौदा समिति के अध्यक्ष द्वारा पेश किया गया था। मसौदा अनुच्छेद 270ए रियासतों की संपत्ति और संपत्ति से संबंधित है।

इसमें कहा गया है कि रियासतों की सभी संपत्ति, संपत्ति और संविदात्मक अधिकार और दायित्व संविधान के लागू होने के बाद केंद्र सरकार को हस्तांतरित कर दिए जाएंगे। एक सदस्य चाहता था कि संसद ‘संसद के अंतिम अधिकार को बनाए रखने’ के लिए इस हस्तांतरण को मंजूरी दे।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 286 In Hindi
Article 287 In Hindi
Article 288 In Hindi
Article 289 In Hindi
Article 290 In Hindi
Article 291 In Hindi
Article 292 In Hindi
Article 293 In Hindi
Article 294 In Hindi
Article 285 In Hindi

Final Words

आपको यह Article 295 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। बाकी मैने Article 295 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है जैसे कि Anuched 295 Kya Hai? अगर Article Of Indian Constitution से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को दोस्तो मे शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *