|

Article 255 In Hindi | Article 255 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 255 क्या है

इसमे आपको Article 255 Of Indian Constitution In Hindi के बारे मे बताया गया है। अगर आपको Article 255 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 255 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसमे हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे इसमे Article 255 के बारे मे भी बताया गया है। भारत के हर व्यक्ति को Indian Constitution Articles के बारे मे जानकारी जरूर से जरूर होनी चाहिए ही।

Article 255 In Hindi

अनुच्छेद 255 – सिफारिशों और पिछले प्रतिबंधों के रूप में अपेक्षाएं केवल प्रक्रिया के मामलों के रूप में मानी जानी चाहिए
संसद का या किसी राज्य की विधायिका का कोई अधिनियम और ऐसे किसी अधिनियम में कोई प्रावधान केवल इस कारण से अमान्य नहीं होगा कि इस संविधान द्वारा आवश्यक कुछ सिफारिश या पूर्व मंजूरी नहीं दी गई थी, यदि उस अधिनियम को सहमति दी गई थी
(ए) जहां राज्यपाल की सिफारिश की आवश्यकता थी, राज्यपाल या राष्ट्रपति द्वारा;
(बी) जहां राजप्रमुख की सिफारिश की आवश्यकता थी, या तो राजप्रमुख या राष्ट्रपति द्वारा;
(सी) जहां राष्ट्रपति की सिफारिश या पिछली मंजूरी की आवश्यकता थी, राष्ट्रपति अध्याय II प्रशासनिक संबंध जनरल द्वारा।

Indian Constitution Part 11 articles

Article 255 Of Indian Constitution In English

Article 255 – Requirements as to recommendations and previous sanctions to be regarded as matters of procedure only
No Act of Parliament or of the legislature of a State and no provision in any such Act, shall be invalid by reason only that some recommendation or previous sanction required by this Constitution was not given, if assent to that Act was given
(a) where the recommendation required was that of the Governor, either by the Governor or by the President;
(b) where the recommendation required was that of the Rajpramukh, either by the Rajpramukh or by the President;
(c) where the recommendation or previous sanction required was that of the President, by the President CHAPTER II ADMINISTRATIVE RELATIONS General.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

अनुच्छेद 255 मे क्या है

वाद-विवाद संक्षेप – मसौदा अनुच्छेद 232 (अनुच्छेद 255) पर 13 जून 1949 को चर्चा हुई थी। मसौदा लेख में कहा गया है कि कोई भी कानून केवल इसलिए अमान्य नहीं होगा क्योंकि संविधान के तहत कुछ प्रक्रियात्मक आवश्यकताओं को पूरा नहीं किया गया था। इसने ऐसे प्रक्रियात्मक प्रतिबंधों को पूरा करने के विकल्प दिए।

(उदाहरण के लिए, अनुच्छेद 274 में राज्यों के हित वाले कराधान को प्रभावित करने वाले विधेयकों को स्थानांतरित करने के लिए राष्ट्रपति की सिफारिश की आवश्यकता होती है। यदि इस प्रक्रिया का पालन नहीं किया जाता है, तो अधिनियम तब भी वैध हो सकता है, यदि राष्ट्रपति इस पर सहमति देते हैं।) कोई वास्तविक नहीं था। इस अनुच्छेद पर बहस हुई और इसे उसी दिन अपनाया गया। संविधान (सातवां संशोधन) अधिनियम, 1956 द्वारा अनुच्छेद 255 में और संशोधन किया गया।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 246 In Hindi
Article 247 In Hindi
Article 248 In Hindi
Article 249 In Hindi
Article 250 In Hindi
Article 251 In Hindi
Article 252 In Hindi
Article 253 In Hindi
Article 254 In Hindi
Article 245 In Hindi

Final Words

आपको यह Article 255 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। बाकी मैने Article 255 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है जैसे कि Anuched 255 Kya Hai? अगर Article Of Indian Constitution से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को दोस्तो मे शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *