Article 227 Of Indian Constitution In Hindi | Article 227 In Hindi | अनुच्छेद 227 क्या है

इसमे आपको Article 227 Of Indian Constitution In Hindi के बारे मे बताया गया है। अगर आपको Article 227 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 227 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसमे हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे इसमे Article 227 के बारे मे भी बताया गया है। भारत के हर व्यक्ति को Indian Constitution Articles के बारे मे जानकारी जरूर से जरूर होनी चाहिए ही।

Article 227 In Hindi

अनुच्छेद 227 – उच्च न्यायालय द्वारा सभी न्यायालयों पर अधीक्षण की शक्ति
अनुच्छेद 227 (1) प्रत्येक उच्च न्यायालय का उन सभी न्यायालयों और न्यायाधिकरणों पर अधीक्षण होगा, जो उन सभी प्रदेशों के अंतर्संबंध में हैं जिनसे वह अपने अधिकार क्षेत्र का प्रयोग करता है।
अनुच्छेद 227 (2) पूर्वगामी प्रावधानों की व्यापकता पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, उच्च न्यायालय
(ए) ऐसे न्यायालयों से रिटर्न मांगना;
(बी) ऐसे न्यायालयों के अभ्यास और कार्यवाही को विनियमित करने के लिए सामान्य नियम बनाना और जारी करना और प्रपत्र निर्धारित करना; तथा
(ग) ऐसे प्रपत्रों का निर्धारण करना जिनमें ऐसे किसी न्यायालय के अधिकारियों द्वारा बहियां, प्रविष्टियां और लेखे रखे जाएंगे।

अनुच्छेद 227(3) उच्च न्यायालय ऐसे न्यायालयों के शेरिफ और सभी क्लर्कों और अधिकारियों और उसमें प्रैक्टिस करने वाले वकीलों, अधिवक्ताओं और प्लीडर को दी जाने वाली फीस की तालिकाओं का निपटान भी कर सकता है: बशर्ते कि कोई नियम, निर्धारित प्रपत्र या खंड के तहत तय की गई तालिकाएँ ( 2) या खंड (3) उस समय लागू किसी भी कानून के प्रावधान के साथ असंगत नहीं होगा, और इसके लिए राज्यपाल के पूर्व अनुमोदन की आवश्यकता होगी।
अनुच्छेद 227(4) इस लेख में कुछ भी सशस्त्र बलों से संबंधित किसी भी कानून द्वारा या उसके तहत गठित किसी भी अदालत या न्यायाधिकरण पर उच्च न्यायालय को अधीक्षण की शक्ति प्रदान करने के लिए नहीं समझा जाएगा।

INDIAN CONSTITUTION PART 6 ARTICLE

Article 227 Of Indian Constitution In English

Article 227 – Power of superintendence over all courts by the High Court
Article 227(1) Every High Court shall have superintendence over all courts and tribunals throughout the territories interrelation to which it exercises jurisdiction.
Article 227(2) Without prejudice to the generality of the foregoing provisions, the High Court may
(a) call for returns from such courts;
(b) make and issue general rules and prescribe forms for regulating the practice and proceedings of such courts; and
(c) prescribe forms in which books, entries and accounts shall be kept by the officers of any such courts.

Article 227(3) The High Court may also settle tables of fees to be allowed to the sheriff and all clerks and officers of such courts and to attorneys, advocates and pleaders practising therein: Provided that any rules made, forms prescribed or tables settled under clause ( 2 ) or clause ( 3 ) shall not be inconsistent with the provision of any law for the time being in force, and shall require the previous approval of the Governor.
Article 227(4) Nothing in this article shall be deemed to confer on a High Court powers of superintendence over any court or tribunal constituted by or under any law relating to the Armed Forces.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

अनुच्छेद 227 मे क्या है

वाद-विवाद संक्षेप – मसौदा संविधान के अध्यक्ष ने प्रस्ताव दिया कि अनुच्छेद के शीर्षक को ‘उच्च न्यायालय द्वारा सभी न्यायालयों पर अधीक्षण की शक्ति’ में बदल दिया जाए। जवाब में, एक सदस्य ने तर्क दिया कि ‘सभी अदालतों के ऊपर’ शब्द बेमानी था। सभा ने सभापति के संशोधन को स्वीकार कर लिया। संशोधित मसौदा अनुच्छेद शुरू में 15 जून 1949 को अपनाया गया था। Play casino india online for free

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 226 In Hindi
Article 217 In Hindi
Article 218 In Hindi
Article 219 In Hindi
Article 220 In Hindi
Article 221 In Hindi
Article 222 In Hindi
Article 223 In Hindi
Article 224 In Hindi
Article 225 In Hindi

Final Words

आपको यह Article 227 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। बाकी मैने Article 227 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है जैसे कि Anuched 227 Kya Hai? अगर Article Of Indian Constitution से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को दोस्तो मे शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *